बुधवार, 5 नवंबर 2008

मैं और मेरी नौकरी -पार्ट ५

आईये आज आपको अपने कार्यालय में उपयोग में आने वाले महत्पुरण शब्दों का बोध करता हूँ॥

फायर फिघ्तिंग : यह संभवता हमारे यहाँ का हर घंटे इस्तेमाल आने वाला शब्द है। फायर डिपार्टमेन्ट भी क्या इतना इस्तेमाल करता होगा। हर साथी पानी लिए आग बुझाने में ही जुटा रहता है। आफ्टर आल क्लाइंट का काम करने में आग निकलती ही इतनी है। वैसे हमने आग बुझाने का भी एक प्रोसेस बना रखा है, जिसमे पॉइंट नम्बर ४ के अनुसार ..जब भी आग लगे ..बस आग ...आग....आग चिल्लाओ और भागो...कोई न कोई तो बुझा ही देगा।

पुल : भाई यह हिन्दी वाला पुल नही बल्कि खींचने वाला पुल है। यह शब्द आपको दिन मैं अगर १०-१२ बार न सुनाई दे तो समझ लो उस दिन कुछ ठीक नही है॥ इस शब्द को सिखाने के लिए हमने प्रक्टिकाल्स भी बनाये है -आपको काम पुल करके सारे काम करने होते है ..जैसे पानी और काफी पीने के लिए ग्लास का ज़ोर लगाकर पुल करना, या फिर वाशरूम मैं तिस्सुए पेपर का पुल करना। बस एक प्रोजेक्ट समय सारणी ही पुल नही हो पाती।

आउटसोर्स : इस शब्द ने तो क्या माया जाल फैलाया हुआ है, पूरे ऑफिस में फैला है। हम शरिंग में बिश्वास करते है इसलिए जब भी काम करने का मन नही करता तो उसको दूसरे को थमा देते है और हो गई आउटसोर्सिंग। इस विधा में तो हर साथी ओल्य्म्पिक मैडल जीत सकता है॥ हो भी क्यों न हमें तो जन्म से आउटसोर्सिंग सिखाई जाती है...नाप्पी बदलवाने से लेकर करियर का डिसीजन लेने तक सब ओउत्सौर्सद है।

लेट्स discuss : बड़ा महिमामयी शब्द है यह, जब कुछ समझ न आए तो लेट्स दिस्कुस्स या फिर काम करने का दिल न करे तो लेट्स दिस्कुस्स, इतना ही नही अगर किस्सी को हड़काना हो तो भी लेट्स दिस्कुस्स॥ और इस शब्द के इस्तेमाल के लिए आपको एकांत चाहिए होता है ..सिर्फ़ आप और आपका लेट्स दिस्कुस्स का साथी॥ वैसे इस लेट्स दिस्कुस्स के परिणाम के बारे में आजतक कोई भी मैनेजमेंट गुरु कुछ बता नही पाया कि फिनाल्ली रिजल्ट क्या निकला॥

कल : अगर यह शब्द न होता तो हमारे क्लिएंट्स को आज ही कितना काम करना पड़ता इसीलिए हम हर चीज़ कल देते है जिससे उन पर बोझ न पड़े। हमें इस पर गर्व है कि हमारा हर साथी इस शब्द का भरपूर उपयोग अपने रोल में करता है।

लेट मी काम बेक तो यू : यह तो हर समस्या का निदान है ...जब कुछ समझ न आए या उत्तर न आता हो तो इस वाक्य का धल्लले के इस्तेमाल करें। किसी को तर्न्काने में भी यह बहुत काम आता है..क्युकी कब काम बेक होगा ..यह तो भगवान् ही जाने॥

आशा है आप इन शब्दों को रट लिए होंगे और तोते कि तरह इनका जाम करते होंगे...लेट मी काम बेक तो यू ऐसे ही नए शब्दों के साथ ।

12 टिप्‍पणियां:

Divya ने कहा…

Awesome... I didnt know I was working at such a happening place. 'Lets me come back to you' with more inputs...!

CoolMood ने कहा…

What a LIST...
The only thing you have missed is
The weekly grilling status meetings.... what say? :)

Usko kyon IGNORE kiya...you MUST say a few words about that too!!

Sanjayneverserious ने कहा…

Thanks Divya & Coolmood. Meetings apne aap mein ek posting legin..unke liye definition kaafi nahi hai

ummed Singh Baid "saadahak " ने कहा…

लगता है कि आप हैं, सरकारी हुक्काम.
बिना काम ही चल रहा आपका सारा काम.
आपका सारा काम, हो रहा राम-भरोसे.
निकले आपकी साँस,सभी यह कहकर कोसें.
कह साधक कवि,आप मिटेंगे यह लगता है.
भारत अब जग रहा, इन्डिया गया लगता है.

dcool ने कहा…

Sir jee yahan pe sab kuch maya hai, har jagah Lo...ss ki chaya hai.

Its an awesome list

Priya Kapoor ने कहा…

and methinks you can have an encyclopedia of such terms ... sanjay, aap jo bhi kartey ho, long term kartey ho....everything you do is at an enterprise level :)
ab likhney ka karya shuru kiya hai to woh bhi aisa ki kuch saalon tak sequels par hi kaam chalta rahega. Pls do 'get back' on the subsequent terms. Ye to poori taxanomy bann sakti hai ...

Stuti Pandey ने कहा…

waah...!! purane din yaad aa gaye. in sab words ko infopro ko patent karwa lena chahiye. :-D

Sanjayneverserious ने कहा…

Adarniya pathkon..apke protsahan ke liye bahut bahut dhanyabaad.

KRIPYA kisi karyalay ya vyakti ka naam na likhen apne comments mein. Dhanyabaad!!

रचना गौड़ ’भारती’ ने कहा…

very good knowledge
भावों की अभिव्यक्ति मन को सुकुन पहुंचाती है ।
लिखते रहिए, लिखने वालों की मंज़िल यही है ।
कविता,गज़ल के लिए मेरे ब्लोग पर स्वागत है ।

CoolMood ने कहा…

WOW! So many comments...

Someone is getting popular fast...

:) All the best!

Amit K. Sagar ने कहा…

ब्लोगिंग जगत में आपका हार्दिक स्वागत है. लिखते रहिये. दूसरों को राह दिखाते रहिये. आगे बढ़ते रहिये, अपने साथ-साथ औरों को भी आगे बढाते रहिये. शुभकामनाएं.
--
साथ ही आप मेरे ब्लोग्स पर सादर आमंत्रित हैं. धन्यवाद.

Sanjayneverserious ने कहा…

"Saadahak" , "Bharti " aur "Sagar" ka mil gaya ashirwaad;

Anya Paathkon ne diya itna saath;

Bas bhaiya ab to lagta hai ban jaaogna internet ka samrath;

Naukari rahe na rahe ..likne ka eb to ab paal hi liya hai samay kaatne ko;