बुधवार, 19 नवंबर 2008

मैं और मेरी नौकरी - पार्ट ९

पिछले वीकएंड रोद्साईद रोमियो देखी, देखने के बाद ऊपर वाले से दुआ मांगी कि एक दिन के लिए मुझे प्लीस कुकुर बना दो॥ सुबह जागा तो पता चला बिस्तर से बंधा हूँ, काले रंग के कुकुर में बदल जो गया था॥ जैसे तैसे पत्नी को समझाया कि आपका ही पति हूँ - एक दिन के अड्वेंचर के लिए कुकुर बना हूँ॥ अड्वेंचर का नाम सुनते ही बीवी तो बिदक गई (भइया कौन बीवी न बिदकेगी)॥ खैर जैसे तैसे उसको समझा के कार्यालय के लिए तैयार हुआ॥ अब फोर्मल्स तो मैं पहनता नही तो आज भी क्यों पहनूगा सो जींस को अपने पैने दांतों से कुत्रा और निक्कर बना के पहन लिया, पीछे वाली दो टांगो पर॥ भइया कुकुर जो बन गया था॥ गैस कि लो कट टी-शर्ट आगे वाली टांगो में दाल कर पहनी और बन गया रोमियो॥ लेकिन मुझे जूते २ अलग अलग जोड़ी पहहने पड़ गए..आखिर पैर ४ जो हो गए थे॥

गले में ऑफिस का पट्टा डाल के फट से ऑफिस के गेट पर पहुँच गया॥ आप भी हैरान होंगे उस दिन जब मैंने काली मशीन में जब उंगली डाली तो तुंरत पहचान गई (शायद कुकुर के लिए इन्वेंशन रहा होगा)॥ शान से दुम हिलाता हुआ लाबी में पहुँचा तो धर लिया गया॥ मैडम तो अड़ गई कि , तुम तुम हो ही नही ...शायद पहले मुझे वोह इंसान समझती थी (कितनी ग़लतफ़हमी है न)॥ उनको चकमा दे के जा पहुँचा अपने दड्वे में..और दुम तो कुर्सी के पीछे लटका के बैठ गया और लैपटॉप खोल के बैठ गया॥ तरह तरह कि हड्डी वाली साईट देखने लगा..इंसानी आदत से मजबूर हूँ न ;)। जैसे ही सही हड्डी दिखती मेरी जीभ और विचार दोनों रस के भर जाते॥ बस एक पोल नही दिया ऑफिस वालों ने इसीलिए इस ब्लॉग को ही पोल समझ लिया॥

तभी फ़ोन बजा और ज्ञात हुआ कि आज तो हर हफ्ते होने वाला सम्मलेन है - बस फिर क्या था पहुँच गया। हर बार कि तरह ही सवाल हुआ - क्या लाये हो? निक्कर में हाथ डाला और हड्डी टेबल पर रख दी और अपनी जीभ लपलपाने लगा॥ फिर सवाल हुआ - बस एक ही? और क्या ला रहे हो? जुबान से फिसल ही गया ..दूसरी लाने के लिए एक और क्लाइंट को काटना पड़ेगा॥ आप जानते ही है ..हड्डी निकलने के बाद किसी में क्या जान बचती है॥

सम्मलेन ख़तम हुआ तो अपने दड्वे में आ के पसर गया और रोज़ कि तरह आँखें बंद करके बिचारों में तल्लीन हो गया॥ वाकई कुकुर और मुझ में बहुत समानता है॥ बीच में अगर किसी ने आके कुछ बोला या फ़ोन आया तो बगैर आँख खोले या एक पलक १५ देग्रीस उठा के बात सुनी और फिर से अपने बिचारों में तल्लीन हो गया॥ आखिर थोट लीडर हूँ न..सबके नही तो अपने तो बिचार तो लीड कर ही सकता हूँ॥ रात में जैसे हम कुकुर हर एक दिशा से आवाज़ लगाते है वैसे ही हमारे सम्मलेन में भी होता है...भोर होने तक भी यह देसिएद नही हो पाता कि सम्मलेन हुआ क्यों था। शायद एक साथ सबके आवाज़ लगाने से कभी कोई तो आवाज़ सुन ही लेगा न ॥

तभी किसी क्लाइंट के मधुर सब्द आ गए किसी प्रोजेक्ट पर..बस फिर क्या था ...बूफ बूफ ..भौं भौं ...कभी सीढ़ी के ऊपर कभी नीचे ..जो मिला उसको काट खाया॥ अब १४ इंजेक्शन पेट में लगने के बाद कोई मेरा क्या हश्र करेगा यह तो आप समझ ही गए होंगे॥ बूफ बूफ...भौं भौं करने में मैं इंसान योनी में भी कुकुर कि बराबरी कर सकता हूँ॥ रात होते ही जहरीले इमेल्स, समस और फोन्स करने लगता हूँ॥ कोई भी निकलता तो उसके पीछे भागने लगता भौंकते हुए..आपने मुझे कार का पीछा करते देखा है न॥ जैसे वहां कार और करवाले को असर नही होता ..वैसे ही ....

आपको पता ही होगा ..कुकुर पागल हो जाए तो बहुत खतरनाक होता है..लेकिन यह भी मुमकिन नही कि इंसानों के कार्यालय में कोई कुकुर पागल कैसे न हो। इसीलिए मुझे पट्टा और दड्वे में डाल दिया गया है..और कभी कभी कोई हड्डी भी दे दी जाती है। हड्डी चूस चूस कर ही बफादार हुआ हूँ॥

मेरी कुकुर नज़र से ये कथा संभवता आगे भी आपको ऐसे ही सुनने को मिलती रहेगी॥ जाऊं ज़रा ...वोह ..उनका ...उम्म्म्म..... पीछा तो कर लूँ॥ अरे.... यह भी तो काम ही है न॥

11 टिप्‍पणियां:

Divya ने कहा…

This is most undoubtedly the baap of all office blogs!!!!

ummed Singh Baid "saadahak " ने कहा…

हाँ! सच बोले कुत्ते हैं, सब सरकारी लोग.
काम-काज कुछ ना करे, लिखते रहते ब्लोग.
लिखते रहते ब्लोग,बैठ ओफ़िस में हरदम.
चाहें फ़टते रहें देश में. विस्फ़ोटक बम.
कह साधक कवि,इस सच को समझो हे भारत!
सरकारी बन्दों ने कर डाला सब गारत.

Stuti Pandey ने कहा…

ati sundar!! itne mahan swapn ki asha tumse hi ki ja sakti hai. karm se to "kukur" ho hi. jo ek baar dhandha diya, uske peeche pad jaate ho..aur jo nahi diya...uske peeche bhi dum hilate rehte ho. :-D

CoolMood ने कहा…

Kya baat hai....kya imagination hai.....maan gaye ustaad....

I have a few more movie suggestions to watch out for:

Garfield, Little Stuart, Toy Story and Shrek!!!

:) Pls watch them so that we have a chance to enjoy your imagination even further!!

Dinesh ने कहा…

Who let the dogs out! Wuf wuf wuf!!!

Dinesh ने कहा…

Saadhak sarkari bando se bade pareshaan hain. sanjay bhai kuch karo inke liye hi is blog mein...

Dinesh ने कहा…

coolmood kuch hindi movie ke suggestions do!!!

ummed Singh Baid "saadahak " ने कहा…

रोके भारत यात्रा, ये सरकारी लोग.
काम तो कुछ भी ना करे, लेते सारे भोग.
लेते सारे भोग,चूसते खून देश का.
साठ बरस में कर दिया बँटाढार देश का.
कह साधक इनके चँगुल से देश निकालो.
नेता-अफ़सर-लूट रहे हैं, हमें बचा लो.

Bhawna ने कहा…

Ati uttam!

Apke bare main itihaas main sunehre aksharon main likha jayega. Appki ki wajah se humain "kukur" ki zindagi ki jalto jehz ka gyat hua.

CoolMood ने कहा…

Arre Hindi...animated movies??

You want me to suggest him Hanuman, Ramayan, Krishna, and Mahabharat!!???

Do you even have any idea, Dinesh, ke phir hum logon ko kya kya padhna padega!!!! ;)

Dinesh ने कहा…

CoolMood...How about Jumbo?...soon releasing for sanjay...